soordas
Type Here to Get Search Results !

soordas

surdas ke pad,bharam geet,surdas in hindi

पहिले करि परनाम नन्द सों समाचार सब दीजो /
और वहाँ ब्रिशभानु गोप सों जाय सकल सुधि लीजो /
श्रीदामा आदिक सब ग्वालन मेरे हुतो भेटियो /
सुख सन्देश सुनाय हमारो गोपिन को दुःख मेटियो /
मंत्री इक बन बसत हमारो  ताहि मिले सचु पाइयो //

सावधान व्हे मेरे हूतो ताहि ताहि माथ नवायियो/
सुन्दर परम किसोर बयक्रम चंचल नयन बिसाल /
कर मुरली सिर मोर पंख पीताम्बर उर बनमाल //
जनि डरियो तुम सघन बनन में ब्रजदेवी रखवार /
ब्रंदावन सो बसत निरंतर कबहुँ न होत नियार //
उद्धव प्रति सब कही स्यामजू अपने मान की प्रीति /
सूरदास किरपा करि पठए यहै सकल ब्रजरीति //

सोरठा example, raag sorath

कहियों नंद कठोर भए /
हम दोऊ बीरें डारि परघरें मनो थाती सौंपि गए //
तनक तनक तैं पालि बड़े किये बहुतै सुख दिखराए /
गोचारन को चलत हमारे पीछे कोसक धाये //

ये बासुदेव देवकी हमसों कहत आपने जाए /
बहुरि विधाता जसुमति जू के हमहिं न गोद खिलाये //
कौन काज यह राज, नगर को सब सुख सों सुख पाए ?
सूरदास ब्रज समाधान करू आजू काल्हि हम  आये //


rag bilawal, सूर meaning

तबहि  उपन्गसुत आय गए /
सखा सखा कछु अंतर नाही भरि-भरि अंक लए //
अति सुन्दर तन स्याम सरीखो देखत हरि पछिताने /
ऐसे को वैसी बुधि होती ब्रज पठवै तब आने //
या आगे रस-काव्य प्रकासे जोग -बचन प्रगतावे /
सूर ज्ञान याके दृढ़ हिरदय जुबतिन जोग सिखावै //

rag bilawal


हरि गोकुल की प्रीति चलाई /
सुनहु उपंगसुत मोहिं न बिसरत ब्रजवासी सुखदायी //
यह चित होत जाऊं मैं अबहीं,यहाँ नहीं मन लागत /
गोप सुग्वालन गाय बन चारत अति दुख पायो त्यागत /
कहँ माखनचोरी ? कहँ जसुमति पूत जेंव करि प्रेम /
सूर स्याम के बचन सहित मुनि व्यापत आपन नेम //

ramkali

जदुपति लख्यो तेहि मुसकात /
कहत हम मन रही जोई सोई भई यह बात //
बचन परगट करन लागे प्रेमकथा चलाय /
सुनहु उद्धव मोहि ब्रज की सुध नहीं बिसराय//
रेनि सोवत ,चलत,जागत लगत नहीं मन आन /
नंद जसुमति नारि नर ब्रज जहाँ मेरो प्रान //
कहत हरि,सुनि उपंगसु ! यह कहत हौ रसरीति /
सूर चित तें टरति नाहीं राधिका की प्रीति //

raag sarang

सखा ! सुनो मेरी इक बात /
वह लतागन संग गोपिन सुधि करत पछितात //
कहाँ वहइ ब्रशभानुतनया परम सुन्दर गात /
सुरति आए रासरस की अधिक जिय अकुलात //
सदा हित यह रहत नाहीं सकल मित्थ्याजात /
सूर प्रभु सुनौ मोसों एक ही सों नात //

raag todi, सूर meaning

उद्धव ! यह मन निश्चय जानो /
मन क्रम बच मैं तुम्हैं पठावत ब्रज को तुरत पलानो //
पूरन ब्रह्म, सकल,अविनाशी ताके तुम हो ज्ञाता /
रेख,न रूप,जाति,कुल नाहीं जाके नहिं पितु माता//
यह मत दे गोपिन कहू आवहु बिरह नदी में भासित /
सूर तुरत यह जाय कहौ तुम ब्रह्म बिना नहिं आसति //

raag nat

उद्धव ! बेगि ही ब्रज जाहु /
सुरति सन्देश सुनाय मेटो बल्लभिन को दाहु //
काम पावक तूलमय तन बिरहु-स्वास समीर /
भसम नाहिन होन पावत लोचन के नीर //
अजौं लौं यदि भांति व्हैहे कछुक सजग सरीर /
इते पर बिनु समाधानों क्यों धरै तिय धीर //
कहों कहा बनाय तुमसों सखा साधु प्रवीन ?
सूर सुमति बिचारिये क्यों जिएं जल बिनु मीन //

raag sarang , soordas ji

पथिक ! संदेशों कहियो जाय /
आवेंगे हम दोनों भैया , मैया जनि अकुलाय //
याको बिलगु बहुत हम मान्यो जों कहि पठयो धाय /
कहँ लौं कीर्ति मानिए तुम्हरी बड़ो कियो पय प्याय //
कहयो जाय नंद बाबा सों , अरु गहि पकरयो पाय /
दोऊ दुखी होन नहिं पावहिं घूमरि धौरी गाय //
यद्धपि मथुरा बिभव बहुत है तुम बिनु कछु न सुहाय /
सूरदास ब्रजबासी लोगनि भेटति ह्रदय जुडाय //

Post a Comment

1 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

हमें गेस्ट पोस्ट भेजने के लिए मेनूबार में गेस्ट पोस्ट नेब९नु पर जाये,

आपका आर्टिकल बिल्कुल orginal होना चाहिए
आर्टिकल कम से कम 1000 शब्दों का होना चाहिए
translated आर्टिकल को पब्लिश नहीं किया जायेगा
किसी ऑनलाइन माध्यम से generated आर्टिकल को स्वीकार नहीं किया जायेगा

Ads Area