Ads Right Header

हरि शब्द के रूप

 हरि शव्द इकारांत पुल्लिंग रूप

हरि शब्द के रूप

विभक्ति

एकवचन

द्विवचन

बहुवचन

प्रथमा

हरि:

हरी

हरय:

द्वितीया

हरिम्

हरी

हरीन्

तृतीया

हरिणा

हरिभ्याम्

हरिभि:

चर्तुथी

हरये

हरिभ्याम्

हरिभ्य:

पन्चमी

हरे:

हरिभ्याम्

हरिभ्य:

षष्ठी

हरे:

हर्यो:

हरीणाम्

सप्तमी

हरौ

हर्यो:

हरिषु

सम्बोधन

हे हरे !

हे हरी !

हे हरय: !

 hari shabd ke roop in sanskrit


हरि शब्द (विष्णु): इकारांत पुल्लिंग रूप, हरी शब्द के तृतीया विभक्ति एकवचनऔर षष्ठी विभक्ति बहुवचन के रूप में ‘न’ के स्थान पर ‘ण’ हो जाता हैं शेष नियम यथावत हैं

पयोधि, ऋषि, कपि, मुनि ,निधि, गिरि, अग्नि, जलधि, कवि, अरि, मणि, उदधि, रवि, आदि के रूप भी “ हरि ” के समान  चलते है

ये भी पढ़ें-

 

 

Previous article
Next article

Leave Comments

Post a Comment

HELLO FRIENDS , THANKS FOR VISIT MY BLOG. I HOPE THAT YOU BACK THIS BLOG QUICKLY.
PLEASE LEAVE A COMMENT. AND SHARE YOUR FRIENDS
FRIENDS IF YOU ARE WANT A DO-FOLLOW BACKLINK SO PLEASE COMMENT ME OR EMAIL.

Ads Atas Artikel

Ads Tengah Artikel 1

Ads Tengah Artikel 2

Ads Bawah Artikel